Sign up for our weekly newsletter

मध्य प्रदेश के इस आदिवासी जिले में फिर जाने लगी बच्चों की जान, क्या हैं वजह?

मध्य प्रदेश के आदिवासी बाहुल्य जिले श्योपुर जिले में बीते एक महीने में तकरीबन 18 बच्चों की इलाज के दौरान मृत्यु हो गई

By Manish Chandra Mishra

On: Thursday 11 July 2019
 
श्योपुर पोषण पुनर्वास केंद्र में भर्ती बच्ची। फोटो: मनीष चंद्र मिश्रा
श्योपुर पोषण पुनर्वास केंद्र में भर्ती बच्ची। फोटो: मनीष चंद्र मिश्रा श्योपुर पोषण पुनर्वास केंद्र में भर्ती बच्ची। फोटो: मनीष चंद्र मिश्रा

मध्यप्रदेश के आदिवासी बाहुल्य जिले श्योपुर जिले में बीते एक महीने में तकरीबन 18 बच्चों की इलाज के दौरान मृत्यु हो गई। सभी बच्चे सहरिया आदिवासी समुदाय के थे। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी ने मृतकों की जांच के आधार पर माना कि ज्यादातर मौत के पीछे अधिक गर्मी वजह रही।

धर्मवीर उर्फ कालू आदिवासी के लिए जुलाई का महीना दुखों का पहाड़ लेकर आया है। महीने की शुरुआत में ही उसकी 18 महीने की बच्ची राजनंदनी बीमार हो गई। उल्टी और दस्त की वजह से कुछ ही देर में बच्ची ने होश खो दिया। बीमारी का असर इतना बुरा था कि शाम होते-होते उसकी बेटी ने इस दुनिया को विदा कह दिया। धर्मवीर मध्यप्रदेश के आदिवासी इलाके श्योपुर जिले के खुर्रखा गांव का रहने वाला है। पेशे में मजदूरी का काम करने वाले धर्मवीर ने बेटी के इलाज में कोई कसर नहीं छोड़ी। बीमार होते ही वह उसे बगल के गांव सहसराम में इलाज के लिए गए भी लेकिन उसका कोई असर नहीं हुआ। धर्मवीर कहते हैं कि उन्हें कुपोषण के बारे में तो नहीं पता लेकिन उनकी बच्ची काफी कमजोर थी और वजन भी कम था।

श्योपुर धर्मवीर की तरह करीब दो दर्जन परिवार को अपना बच्चा खोने का दर्द झेलना पड़ रहा है। पिछले एक महीने के दौरान इसी जिले के छोटी पीपलबाड़ी गांव में ढाई साल की गंभीर कुपोषित निवारी लाल आदिवासी की पुत्री नीलम, कदवई गांव में कमल किशोर आदिवासी की बेटी एक साल की गुड़िया, शिवलालपुरा गांव की आदिवासी बस्ती में मुकेश आदिवासी का बेटा संजू, दाताराम आदिवासी की 18 महीने की बेटी सोनिया, कराहल के कांदरखेड़ा गांव में वकील सिंह आदिवासी की तीन साल की बेटी शिवानी ने दम तोड़ दिया। अगर सभी मामलों को जोड़ा जाए तो एक महीने में तकरीबन 18 बच्चों ने इस इलाके में दम तोड़ा है। मई महीने के अंत में महिला एवं बाल विकास विभाग की टीम इन गावों में आई थी और उन्हें कई बच्चों में उल्टी और दस्त की शिकायत मिली थी। 

श्योपुर जिला कुपोषण के मामले में संवदेनशील है। यह कोई पहला साल नहीं जब श्योपुर से बच्चों की बदहाल स्थिति सामने आई हो। नेशनल फैमिली हेल्थ सर्वे की हालिया रिपोर्ट बताती है कि वर्ष 2015-16 में श्योपुर जिले के पांच वर्ष से कम उम्र के आधे से अधिक बच्चों का कद सामान्य से ज्यादा छोटा है। मध्य प्रदेश के कुल 42 प्रतिशत बच्चे इस तरह वृद्धि बाधित कुपोषण यानी कद में कमी के शिकार हैं। कद कुपोषण मापने का एक पैमाना माना जाता है। इस सर्वे की रिपोर्ट कहती है कि इस उम्र के 55 फीसदी बच्चों का वजन जरूरत से काफी कम है। अगर पूरे मध्यप्रदेश के आंकड़े को देखे तो इस उम्र के 42.8 प्रतिशत बच्चे कम वजन वाले हैं और पूरे देश में यह आंकड़ा 35.7 प्रतिशत है। 

पिछले महीने जिला योजना समिति की बैठक पेश की गई रिपोर्ट में बताया गया कि अप्रैल 2018 से लेकर मार्च 2019 तक 1144 अति कुपोषित बच्चे तीनों ब्लॉक की पोषण पुनर्वास केंद्रों (एनआरसी) में दाखिल हुए, जो कि एनआरसी की क्षमता से कहीं अधिक है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक साल 2016 के अगस्त-सितंबर महीने में भी कुपोषण के चलते 100 से अधिक बच्चों की मौत हुई थी, हालांकि सरकार ने इन आंकड़ों की पुष्टि तब भी नहीं की थी। मामले की गंभीरता को देखते हुए महिला एवं बाल विकास विभाग के वरिष्ठ अधिकारी और मंत्री इमरती देवी भी इस इलाके के दौरे पर है। 

स्वास्थ्य विभाग को आशंका, कहीं क्लाइमेट चेंज तो नहीं मौत की वजह!

क्या बच्चे भीषण गर्मी को झेल पाने में असमर्थ हैं? श्योपुर के स्वास्थ्य विभाग को इस बात का अंदेशा है। इस इलाके में कुपोषण से बच्चों की स्थिति खराब है लेकिन लगातार हो रही मौतों पर स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट का इशारा कुछ और है। एक के बाद एक बच्चे की मृत्यु पर स्वास्थ्य विभाग के चिकित्सकों ने सभी मामलों की जांच की। जिले के मुख्य स्वास्थ्य एवं चिकित्सा अधिकारी डॉ. एआर करोदिया ने डाउन टू अर्थ से बातचीत में इन मामलों में कुपोषण से अधिक अन्य बीमारियों को मौत का जिम्मेदार बताया। उन्होंने कहा कि मौत के ज्यादातर मामले उस समय के हैं जब जिले में गर्मी अपने चरम पर थी। अधिकतर बच्चों को उल्टी और दस्त की शिकायत थी और कुछ मामले निमोनिया के भी मिले हैं। ऐसे में डॉ. करोदिया मानते हैं कि मौसम में भारी बदलाव से बच्चे इसे सह नहीं पा रहे और बीमार हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि दस्तक अभियान के तहत पिछले दिनों उन गांवों से 40 बच्चों को पोषण पुनर्वास केंद्र में भर्ती कराया गया जहां उन्हें पोषण आहार और उचित इलाज मिल सकेगा।

कुपोषण के ऊपर काम करने वाले शोधकर्ता और विकास संवाद संस्था से जुड़े समाजिक कार्यकर्ता सचिन कुमार जैन बताते हैं कि श्योपुर में सहरिया आदिवासी रहते हैं और उनकी आर्थिक, समाजिक परिस्थिति की वजह से इलाके में गंभीर कुपोषण की समस्या है।

सचिन भी मानते हैं कि बीते कुछ वर्षों में क्लाइमेट चेंज का प्रभाव मानव जीवन पर पड़ा रहा है और बच्चे इससे काफी प्रभावित हैं। मध्यप्रदेश का तामपान बीते दिनों ऐतिहासिक रूप में में ऊपर रहा और इसका असर बच्चों पर बिल्कुल हो सकता है। सचिन ने इस मामले को खान-पान, सुपोषण,बीमारियों के इलाज के इंतजामों के साथ मौसम में हो रहे बदलाव के नजरिए से भी देखने की बात की।  

20 दिन में मिले 10 हजार से अधिक गंभीर कुपोषित बच्चे

कुपोषण से मृत्यु की खबरों के बीच मध्यप्रदेश सरकार का दस्तक अभियान भी चल रहा है। इस अभियान के तहत प्रदेश में कुपोषण से संबंधित भयावह आंकड़े सामने आ रहे हैं। 10 जून से शुरु हुए इस अभियान में पूरे जून महीने में 29 लाख 61 हजार बच्चों की जांच की गई है। जांच में 10 हजार 736 बच्चे गंभीर कुपोषित पाए गए। इस अभियान में एएनएम, आंगनवाड़ी और आशा कार्यकर्ता के दल घर-घर पहुंचकर कुपोषित बच्चों को चिन्हित कर रहे हैं।  

राज्य नोडल ऑफिसर डॉ. प्रज्ञा तिवारी ने बताया कि गंभीर कुपोषित चिन्हांकित बच्चों मे से 2408 बच्चों को प्राथमिकता के आधार पर पोषण पुनर्वास केंद्र (एनआरसी) में भर्ती कर उपचार किया गया और उन्हें पोषण आहार दिया गया। गंभीर एनिमिक 539 बच्चों को रक्ताधान (ब्लड ट्रांसफ्यूजन) किया गया। डिहाइड्रेशन से पीड़ित 6737 बच्चों को संस्थागत उपचार दिया गया।