Sign up for our weekly newsletter

ओजोन प्रदूषण, अच्छी या खराब ओजोन क्या होती है?

गर्मियों के दौरान ओजोन एक प्रमुख प्रदूषक होने के साथ-साथ इसमें प्रदूषण के कण (पार्टिकुलेट मैटर) भी होते हैं, जो स्वास्थ्य को गंभीर नुकसान पहुंचा सकता है।

By Dayanidhi

On: Monday 05 April 2021
 
What is ozone pollution or good or bad ozone?
Photo: Wikimedia Commons Photo: Wikimedia Commons

"अच्छी" बनाम "खराब" ओजोन क्या होती है?

ओजोन एक गैस है जो ऑक्सीजन के तीन परमाणुओं से बनी है। ओजोन पृथ्वी के ऊपरी वायुमंडल और जमीनी स्तर पर दोनों में होती है। ओजोन अच्छी या बुरी हो सकती है, यह इस बात पर निर्भर करता है कि यह कहां पाई जा रही है।

ऊपरी वायुमंडल में स्वाभाविक रूप से अच्छी ओजोन होती है, जिसे स्ट्रैटोस्फेरिक ओजोन कहा जाता है। जहां यह एक सुरक्षात्मक परत बनाती है जो हमें सूरज की हानिकारक पराबैंगनी किरणों से बचाती है। इस लाभदायक ओजोन को मानव निर्मित रसायनों द्वारा आंशिक रूप से नष्ट किया जा रहा है, जिसे कभी-कभी "ओजोन में छेद" होना भी कहा जाता है। अब अच्छी खबर यह है कि, यह छेद का आकार कम हो रहा है।

जमीनी स्तर की ओजोन एक हानिकारक वायु प्रदूषक है, क्योंकि इसका लोगों और पर्यावरण पर खराब असर पड़ता है और इसकी "स्मॉग" या "धुंध" में अहम भूमिका होती है।

जमीनी स्तर की ओजोन कैसे बनती है?

सेंटर फॉर साइंस एंड एनवायरमेंट (सीएसई) के अनुसार ट्रोपोस्फेरिक या जमीनी स्तर की ओजोन सीधे हवा में उत्सर्जित नहीं होती है, लेकिन यह नाइट्रोजन (एनओएक्स) और वाष्पशील कार्बनिक यौगिकों (वीओसी) के ऑक्साइड के बीच रासायनिक प्रतिक्रियाओं के द्वारा बनती है। यह तब बनती है जब कार, बिजली संयंत्र, औद्योगिक बॉयलर, रिफाइनरी, रासायनिक संयंत्र और अन्य स्रोतों से उत्सर्जित प्रदूषक रासायनिक रूप से सूर्य के प्रकाश की उपस्थिति में प्रतिक्रिया करते हैं। हर साल गर्मियों में, सीएसई "गर्मी के दौरान ओजोन" पर विश्लेषण जारी करता है।

शहरी वातावरण में खिली धूप खासकर गर्मी के दिनों में ओजोन के खराब स्तर तक पहुंचने की आशंका अधिक रहती है, यह आपके स्वास्थ्य को हानि पहुंचा सकती है, लेकिन यह ठंड के महीनों के दौरान भी सबसे अधिक खराब स्तर तक पहुंच सकती है। ओजोन को हवा द्वारा लंबी दूरी तक पहुंचाया जा सकता है, इसलिए ग्रामीण क्षेत्रों में भी खराब ओजोन स्तर का अनुभव किया जा सकता है।

ओजोन के स्वास्थ्य पर पड़ने वाले हानिकारक प्रभाव क्या हैं?

हवा में ओजोन होती है, जिसमें हम सांस लेते हैं यह हमारे स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचा सकती हैं। ओजोन युक्त हवा में सांस लेने से लोगों को सबसे अधिक खतरा होता है, जिसमें अस्थमा की बीमारी वाले लोग, बच्चे, बूढ़े और ऐसे लोग शामिल होते हैं जो घर के बाहर काम करते हैं। इसके अलावा, कुछ अनुवांशिक विशेषताओं वाले लोग और कुछ पोषक तत्वों, जैसे विटामिन सी और के कम सेवन करने वाले लोगों को ओजोन के अधिक खतरा होता है।

ओजोन की बढ़ती हुई सांद्रता कई तरह की समस्याओं को बढ़ा सकती है, जैसे छाती में दर्द, खांसी, गले में जलन और गले में सूजन। यह फेफड़ों के कार्य को धीमा कर सकता है और फेफड़ों के ऊतकों को नुकसान पहुंचा सकता है। ओजोन ब्रोंकाइटिस, वातस्फीति/वायुस्फीति और अस्थमा को खराब कर सकता है, जिससे बीमार को चिकित्सा देखभाल की अधिक आवश्यकता हो जाती है।

ओजोन के पर्यावरणीय प्रभाव क्या हैं?

ओजोन के बढ़ते स्तर के संपर्क में आने से वन, वन्यजीव और जंगल के क्षेत्रों सहित संवेदनशील वनस्पतियों और पारिस्थितिक तंत्र प्रभावित हो सकता है। यह पौधों के प्रकाश संश्लेषण की प्रक्रिया को भी प्रभावित करती है।

ओजोन परत का कजोर पड़ना जलवायु परिवर्तन का प्रमुख कारण हो सकता है?

संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम के अनुसार ऐसा नहीं है, ओजोन का कमजोर पड़ना जलवायु परिवर्तन का प्रमुख कारण नहीं है। हांलाकि, ओजोन का कमजोर पड़ना दुनिया भर में जलवायु परिवर्तन से जुड़ा हुआ है क्योंकि ओजोन के कमजोर पड़ने के पीछे ग्रीनहाउस गैस है।

ओजोन भी एक ग्रीनहाउस गैस है, इसलिए स्ट्रैटोस्फेरिक ओजोन की कमी से सतह ठंडी हो जाती है। इसके विपरीत, ट्रोपोस्फेरिक ओजोन और अन्य ग्रीनहाउस गैसों में वृद्धि से सतह गर्म होती है। अंटार्कटिक ओजोन छिद्र ने वायुमंडल में हवाओं के बहाव पर प्रभाव डाला जिसने दक्षिणी गोलार्ध की सतह के जलवायु में बदलाव के लिए अहम योगदान दिया है।