Sign up for our weekly newsletter

खेती पर बढ़ते दबाव से जीवों की 20 हजार प्रजातियां हो सकती हैं प्रभावित

शोध में अनुमान लगाया कि बढ़ती वैश्विक आबादी को खिलाने के लिए कृषि में विस्तार करने से स्तनधारियों, पक्षियों और उभयचरों की लगभग 20 हजार प्रजातियों के प्रभावित होने की आशंका है

By Dayanidhi

On: Tuesday 22 December 2020
 
By 2050, millions of square kilometers of natural habitats will disappear forever due to increasing agricultural pressure
Photo : Wikimedia Commons, Habitat Destruction, Uganda Photo : Wikimedia Commons, Habitat Destruction, Uganda

एक शोध में पाया गया है कि यदि दुनिया भर में खाने-पीने के तरीकों में व्यापक बदलाव नहीं किया गया तो जैव विविधता को बहुत अधिक नुकसान हो सकता है।

इससे पहले किए गए अध्ययन में बताया गया था कि दुनिया भर में स्तनधारी, पक्षी और उभयचरों के प्राकृतिक आवासों का औसतन 18 फीसदी भूमि के उपयोग और जलवायु परिवर्तन के कारण नुकसान हो चुका है। सबसे खराब स्थिति में यह नुकसान अगले 80 वर्षों में 23 फीसदी तक बढ़ सकता है।

लीड्स विश्वविद्यालय और ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने यह शोध किया, जिसके प्रमुख शोधकर्ता डॉ. डेविड विलियम्स थे, जो लीड्स स्कूल ऑफ अर्थ एंड एनवायरनमेंट और सस्टेनेबिलिटी रिसर्च इंस्टीट्यूट से जुड़े हैं।

डॉ. डेविड विलियम्स ने कहा, हमने अनुमान लगाया कि बढ़ती वैश्विक आबादी को खिलाने के लिए कृषि में विस्तार करने से स्तनधारियों, पक्षियों और उभयचरों की लगभग 20 हजार प्रजातियों के प्रभावित होने की आशंका है। शोध बताते हैं कि खाद्य प्रणालियों में बड़े बदलाव के बिना सन 2050 तक जीव-जंतुओं के लाखों वर्ग किलोमीटर प्राकृतिक आवास हमेशा के लिए गायब हो जाएंगे।

लगभग 1,300 प्रजातियां अपने बचे निवास में से कम से कम एक चौथाई खोती जा रही हैं और सैकड़ों के कम से कम आधे निवास गायब हो सकते हैं। इससे उनके विलुप्त होने के आसार बढ़ जाते हैं। यदि हम वैश्विक स्तर पर वन्यजीवों को बचाने का प्रयास कर रहे हैं तो कुछ बदलाव करने होंगे, जैसे किहम क्या खाते हैं और यह कैसे उत्पन्न होता है, हमें अपने आहार और खाद्य उत्पादन दोनों तरीकों को बदलने की आवश्यकता है।

अध्ययन में अनुमान लगाया गया है कि खाद्य प्रणालियां पिछले शोध के अनुसार 2.25 वर्ग किलोमीटर की तुलना में एक छोटे स्थानिक पैमाने पर जैव विविधता को कैसे प्रभावित करेंगी, जिससे परिणामों को संरक्षण की कार्रवाई के लिए अधिक प्रासंगिक बनाया जा सकेगा। यह शोध नेचर सस्टेनेबिलिटी में प्रकाशित हुआ है।

इसमें ऐसा अनुमान लगाया गया है कि प्रत्येक देश को एक नए मॉडल के अनुसार कितनी कृषि भूमि की आवश्यकता होगी, जिसमें पता चला है कि कृषि विस्तार सबसे अधिक होने की संभावना है। यह देखकर कि व्यक्तिगत पशु प्रजातियां खेत में जीवित रह सकती हैं या नहीं, शोधकर्ताओं ने तब निवास स्थान में परिवर्तन का अनुमान लगाया, उन्हें पता चला कि उप-सहारा अफ्रीका और मध्य और दक्षिण अमेरिका के कुछ हिस्सों में नुकसान अधिक गंभीर थे।

कई प्रजातियां जिनकी सबसे अधिक प्रभावित होने की संभावना हैं, उन्हें विलुप्त होने के खतरे के रूप में सूचीबद्ध नहीं किया गया है।

यूनिवर्सिटी ऑफ़ ऑक्सफ़ोर्ड के डॉ. माइकल क्लार्क ने कहा जैसा कि 2021 में अंतरराष्ट्रीय जैव विविधता लक्ष्य निर्धारित किया जाना है, ये परिणाम कृषि भूमि की मांग को कम करके जैव विविधता की सुरक्षा के लिए सक्रिय प्रयासों के महत्व को सामने लाते हैं।

जैव विविधता को धीमा और पीछे करने की चर्चाएं अक्सर पारंपरिक संरक्षण कार्यों पर ध्यान केंद्रित करती हैं, जैसे कि नए संरक्षित क्षेत्रों की स्थापना करना या खतरे वाली प्रजातियों के लिए विशिष्ट कानून बनाना। ये पूरी तरह से ज़रूरी हैं और जैव विविधता के संरक्षण के लिए प्रभावी हैं।

हालांकि हमारे शोध से कृषि पर विस्तार जैसे जैव विविधता परम तनाव को कम करने के महत्व पर जोर दिया है। अच्छी बात यह है कि अगर हम खाद्य प्रणाली में परिवर्तन करते हैं, तो हम इन सभी निवास नुकसानों को रोक सकते हैं।

अध्ययन में कहा गया है कि क्या स्वस्थ आहार, भोजन की बर्बादी में कमी, फसल की पैदावार में वृद्धि और अंतर्राष्ट्रीय भूमि उपयोग योजना भविष्य की जैव विविधता के नुकसान को कम कर सकती है। यह दृष्टिकोण नीति निर्माताओं और संरक्षणवादियों को यह पहचानने में सक्षम बनाता है कि उनके देश या क्षेत्र में किन बदलावों को करने से सबसे अधिक लाभ होने की संभावना है।

उदाहरण के लिए, कृषि पैदावार बढ़ाने से उप-सहारा अफ्रीका में जैव विविधता को बहुत लाभ होगा, लेकिन उत्तरी अमेरिका में बहुत कम, जहां पैदावार पहले से ही अधिक है। इसके विपरीत उत्तरी अमेरिका में स्वास्थ्यवर्धक आहारों में बदलने से बड़े लाभ होंगे, लेकिन उन क्षेत्रों में लाभ अधिक होने की संभावना कम है जहां मांस की खपत कम है और खाद्य असुरक्षा अधिक है।

डॉ. क्लार्क ने कहा कि महत्वपूर्ण रूप से हमें इन सभी चीजों को करने की आवश्यकता है। कोई भी दृष्टिकोण अपने आप में पर्याप्त नहीं होता है। लेकिन दुनिया भर में समन्वय और तेजी से कार्रवाई करने से सन 2050 में बिना किसी निवास स्थान के नुकसान के दुनिया भर की आबादी के लिए स्वस्थ आहार मिलना संभव होना चाहिए।